Shree Shiv Chetan Yati Maharaj ji ka punya tithi.

श्रधांजली श्री शिव चेतन यति महंत

posted in: Social Welfare | 0

मनिहारी, गाजीपुर सिद्धपीठ औढारी मठ के महंथ स्वामी शिवचेतन यति जी महाराज विगत 20 मई को श्रवण मठ बलिया में ब्रम्हलीन हो गये, इनकी जल समाधि सिद्धपीठ हथियाराम के महंथ श्री स्वामी भवानी नंदन यति जी महाराज के सानिध्य में 21 मई को काशी में की गयी I और महाराज श्री के निर्देशानुसार 3 जून को भंडारा का आयोजन सिद्धपीठ औढारी मठ पर क्षेत्रीय श्रद्धालुओं व भक्तों द्वारा किया गया, जिसमे क्षेत्रीय लोगो ने काफी संख्या में उपस्थित होकर श्रद्धांजलि दी तथा ब्रम्हलीन महाराज जी को याद किया गया I
उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए समाज सेवी डॉ. प्रदीप यादव ने कहा की आत्मा अजर और अमर होती है, आत्मा तो सबमे होती है पर जो जनकल्याण व गरीबों की सेवा में तत्पर रहते है वही महात्मां होते है, हमेशा महाराज जी समाज को एक सूत्र में बांधने एवं जनकल्याण के लिये तत्पर रहते थे, बराबर संत समाज के लोग समाज एवं विश्वकल्याण के लिए लीन रहते है, इस अवसर पर राजेन्द्र, रामदरश, नित्यानंद पाण्डेय, कमलेश राजभर, जीवन लाल, रवि प्रकाश शुक्ला, कोमल,हरेन्द्र कुमार गौड़, डॉ रामकृत, श्रीमती आराधना, सीमा देवी, सुषमा, सुनीता आदि लोग उपस्थित थे I